यूपी: प्रधान मंत्री योगी आदित्यनाथ की मुखबिरों से लड़ाई में फिर से कोरोनोवायरस बने


अतिरिक्त मुख्य सचिव अवनीश कुमार अवस्थी ने इंडिया टुडे टीवी को बताया कि मुख्यमंत्री हेल्पलाइन 1076 से 10,000 प्रधानों को बुलाया गया और उनसे पिछले दो सप्ताह में बाहर से आए लोगों के संबंध में जानकारी ली गई ताकि संदिग्धों की जाँच और निगरानी की जा सके।

पिछले हफ्ते बाहर से आए लोगों की जानकारी लेने के लिए योगी आदित्यनाथ का कार्यालय प्रधानों के पास पहुंच रहा है (फाइल | PTI)

उत्तर प्रदेश में योगी आदित्यनाथ सरकार उन लोगों को ट्रेस करने में लगी हुई है जो दुबई, महाराष्ट्र, दिल्ली, केरल आदि जैसे उपन्यास कोरोनोवायरस से प्रभावित क्षेत्रों से राज्य में आए हैं और यूपी सरकार ने ऐसा करने के लिए एक सरल तरीका खोजा है। सीएम कार्यालय राज्य भर के ग्राम प्रधानों से संपर्क कर रहा है, ताकि पिछले दो सप्ताह में जो भी बाहर से आया हो, उसकी जानकारी जुटाई जा सके।

अतिरिक्त मुख्य सचिव अवनीश कुमार अवस्थी ने इंडिया टुडे टीवी को बताया कि मुख्यमंत्री हेल्पलाइन 1076 से 10,000 प्रधानों को बुलाया गया था और उनसे पिछले दो सप्ताह में बाहर से आए लोगों के संबंध में जानकारी ली गई थी ताकि संदिग्धों की जाँच और निगरानी की जा सके।

हेल्पलाइन 1076 राज्य के किसी भी निवासी के लिए उपलब्ध है, जो स्वास्थ्य संबंधी शिकायत दर्ज करवाना चाहते हैं।

साथ ही मुख्यमंत्री ने हर जिले में एक जिला नियंत्रण कक्ष बनाने का भी निर्देश दिया है।

अवनीश कुमार अवस्थी ने कहा कि सभी विधायक, एमएलसी, मंत्री राज्य में चिकित्सा सुविधाओं के लिए अपने फंड से पैसा देंगे। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने तालाबंदी के दौरान पूरे राज्य में सफाई अभियान चलाने का भी निर्देश दिया है।

प्रमुख सचिव स्वास्थ्य अमित मोहन प्रसाद ने कहा कि उत्तर प्रदेश में अब तक उपन्यास कोरोनवायरस के 38 मामले सामने आए हैं। राज्य में 6,000 से अधिक अलगाव बेड की पहचान की गई है। उन लोगों से अपील की गई है जो दूसरे राज्यों और प्रांतों से लौटे हैं कि उन्हें 15 दिनों तक अपने घरों पर रहना होगा।

यदि कोई व्यक्ति घर से संगरोध के दौरान उपन्यास कोरोनावायरस से संबंधित कोई लक्षण दिखाता है, तो वह स्वास्थ्य विभाग द्वारा जारी हेल्पलाइन नंबर 18001805145 पर कॉल कर सकता है।

चिकित्सा सुविधाओं का विवरण देते हुए उन्होंने कहा कि राज्य में आपातकालीन स्वास्थ्य सेवाएं पहले से ही चालू हैं। उपन्यास कोरोनावायरस रोगियों के उपचार के लिए त्रिस्तरीय व्यवस्था की जा रही है। सीएचसी को जिलों के कोविद -19 अस्पतालों में बदल दिया जा रहा है। जिला स्तर पर अस्पतालों को स्तर -2 अस्पतालों में बनाया जा रहा है। चिकित्सा शिक्षा द्वारा बनाए गए विशेष अस्पतालों को तीसरे स्तर के लिए शामिल किया जा रहा है।

यह भी पढ़ें | कोरोनावायरस ट्रैकर: दैनिक रुझान, राज्य वार कोविद -19 मामले, रोगी ठीक हो गए
यह भी पढ़ें | लॉकडाउन अकेले कोरोनावायरस को समाप्त नहीं करेगा: भारत को डब्ल्यूएचओ
यह भी देखें | सुनसान सड़कें, बंद दुकानें: तालाबंदी के दौरान देश कैसा दिखता है

खेल के लिए समाचार, अद्यतन, लाइव स्कोर और क्रिकेट जुड़नार, पर लॉग इन करें indiatoday.in/sports। हुमे पसंद कीजिए फेसबुक या हमें फॉलो करें ट्विटर के लिये खेल समाचार, स्कोर और अपडेट।
वास्तविक समय अलर्ट प्राप्त करें और सभी समाचार ऑल-न्यू इंडिया टुडे ऐप के साथ अपने फोन पर। वहाँ से डाउनलोड

  • Andriod ऐप
  • आईओएस ऐप





Source link